पूरी क्षमता के साथ दौड़ेगी महाराष्ट्र की लालपरी

43

हाइलाइट्स:

  • महाराष्ट्र में एसटी बसें अब पूरी सवारी क्षमता के साथ सेवाएं देंगी, राज्य सरकार ने लिया फैसला
  • बीते पांच महीने से कोरोना के चलते बंद थी एसटी बस, सिर्फ आवश्यक सेवायें ही शुरू थीं
  • यात्रा के दौरान मास्क पहनना और हाथों को सैनिटाइज़ करना होगा अनिवार्य
  • फ़िलहाल 5 हजार बसों में 5 से 6 लाख मुसाफिर यात्रा कर रहे हैं

महाराष्ट्र सरकार ने 18 सितंबर यानी शुक्रवार से राज्य परिवहन की बस सेवा को पूरी क्षमता (यात्रियों) के साथ शुरू करने की मंजूरी दे दी है। अब एसटी बस में पूरी संख्या में मुसाफिर यात्रा कर सकते हैं, यह निर्णय आज से लागू हो जाएगा। इस दौरान सभी को मास्क पहनना और अपने हाथों को सैनिटाइज़ करना आवश्यक होगा।

मुसाफिरों को मिलेगी राहत
एसटी महामंडल के निवेदन पर राज्य सरकार ने 20 अगस्त से राज्य भर में एसटी बसें शुरू करने की अनुमति दी थी। हालाँकि, बैठने की कुल क्षमता का केवल 50 प्रतिशत सवारियां ही ले जाना अनिवार्य था। इस संबंध में, एसटी महामंडल ने यात्रियों को पूरी क्षमता से परिवहन करने के लिए राज्य सरकार से अनुमति मांगी थी।जिसपर फैसला लेते हुए राज्य सरकार ने प्रत्येक यात्री और कर्मचारियों को यात्रा के दौरान मास्क पहनने और सैनिटाइज़र का उपयोग करने की शर्त पर बसों सभी सीटों पर यात्रियों को ले जाने की अनुमति दी है।

पांच महीने बंद थी एसटी बस सेवा
कोरोना की वजह से लगाए गए लॉकडाउन के दौरान पिछले पांच महीनों से आवश्यक सेवाओं को छोड़कर पूरे राज्य में एसटी यातायात बंद था। जिसके बाद, राज्य सरकार के निर्देशानुसार कई चरणों में एसटी परिवहन शुरू किया गया। फ़िलहाल राज्य भर में लगभग 5000 एसटी बसें प्रतिदिन चलती हैं और इन बसों में औसतन 5 से 6 लाख मुसाफिर यात्रा करते हैं

कम बसों में ज्यादा यात्री जा सकेंगे
अगर यात्री परिवहन पूरी बैठने की क्षमता के साथ शुरू होता है, तो भविष्य में कम बसों द्वारा अधिक लोगों को यात्रा करना संभव होगा। हालांकि, यात्रा के दौरान सभी को मास्क पहनना और अपने हाथों और बस को सैनिटाइज़ करना अनिवार्य होगा।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here