पुरुषों के प्राइवेट पार्ट पर होते हैं कई जर्म्स, इनसे महिलाओं को हो सकता है बैक्टीरियल वेजिनोसिस | health – News in Hindi

51

बैक्टीरियल वेजिनोसिस क्या है जानें (फोटो साभार: pexels/Jessica Lewis)

महिलाओं में होने वाले असमान्य वेजाइनल डिसचार्ज का सबसे आम कारण बैक्टीरियल वेजिनोसिस (Bacterial Vaginosis) ही होता है. अगर पुरुष साथी के पेनाइल माइक्रोबायोटा (Penis microbes) अस्वस्थ हों तो उसकी महिला साथी को बैक्टीरियल वेजिनोसिस हो सकता है…




  • Last Updated:
    August 17, 2020, 2:10 PM IST

ये तो आपने सुना ही होगा कि महिलाओं की योनि का अपना एक अलग ही पारिस्थितिकी तंत्र होता है. इसे और बेहतर तरीके से माइक्रोबायम के रूप में जाना जाता है, जिसमें यीस्ट, बैक्टीरिया और अन्य माइक्रोब्स यानि रोगाणु मौजूद होते हैं. जब इस माइक्रोबायम का संतुलन गड़बड़ा जाता है तो इससे बैक्टीरियल वेजिनोसिस जैसे योनि से जुड़े संक्रमण हो सकते हैं.

क्लेवलैंड क्लीनिक के अनुसार प्रजनन की उम्र में महिलाओं में होने वाले असमान्य वेजाइनल डिसचार्ज का सबसे आम कारण बैक्टीरियल वेजिनोसिस ही होता है. यह पतला, ग्रे, सफेद और हरे रंग का डिसचार्ज होता है, जिसमें से बहुत तेज बदबू आती है. आमतौर पर सेक्स के बाद या पारियड्स के दौरान इस बदबू का एहसास होता है. योनि में खुजली और पेशाब में जलन भी बैक्टीरियल वेजिनोसिस के लक्षण हैं. हालांकि, ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस (NHS) के अनुसार बैक्टीरियल वेजिनोसिस से पीड़ित 50 फीसद महिलाओं में कोई लक्षण नजर नहीं आते हैं. यही कारण है कि इस वेजाइनल इंफेक्शन का पता लगाना और भी मुश्किल होता है.

बैक्टीरियल वेजिनोसिस के कारणलैक्टोबैसिलस एक तरह का बैक्टीरिया है और यह वैजाइनल माइक्रोबायम का हिस्सा है. साल 2018 में इंटरनेशनल जरनल ऑफ माइक्रोबायोलॉजी में छपी एक स्टडी के अनुसार लैक्टोबैसिलस अन्य रोगाणुओं के साथ मिलकर योनि में लैक्टिक एसिड बनाता है, जो बैक्टीरियल और फंगल इंफेक्शन के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करता है. माइक्रोबायम में किसी भी तरह के परिवर्तन, खासतौर पर लैक्टोबैसिलस के अधिक या कम वृद्धि की वजह से योनि के पीएच स्तर में बदलाव होने लगता है, जो बैक्टीरियल वेजिनोसिस का कारण बनता है.

माइक्रोफ्लोरा में इस तरह का परिवर्तन आमतौर पर योनि की स्वच्छता को बनाए रखने के लिए गलत तरीकों के इस्तेमाल के कारण हो सकता है. इसके अलावा अगर आपके कई सेक्स पार्टनर हैं या नया सेक्स पार्टनर चुनने की वजह से भी ऐसा हो सकता है. अगर आपकी सेहत ठीक नहीं है और आपकी योनि में लैक्टोबैसिलस व अन्य जरूरी रोगाणुओं का उत्पादन कम हो रहा है तो भी यह असंतुलन का कारण बन सकता है, जिससे बैक्टीरियल वेजिनोसिस हो सकता है.

अगस्त 2020 में फ्रंटीयर्स इन सेल्युलर एंड इंफेक्शन माइक्रोबायोलॉजी में छपी एक स्टडी में पता चला कि संभोग के बाद भी पेनाइल माइक्रोबायोटा या पुरुषों के प्राइवेट पार्ट पर मौजूद रोगाणुओं की वजह से वैजाइनल माइक्रोबायम में असंतुलन पैदा हो सकता है. अगर किसी पुरुष के पेनाइल माइक्रोबायोटा अस्वस्थ हों तो उसकी वजह से उसकी महिला साथी को बैक्टीरियल वेजिनोसिस हो सकता है, खासतौर पर अगर उनमें असुरक्षित यौन संबंध स्थापित हुए हों तो. इस स्टडी से यह बात स्पष्ट हो जाती है कि सेक्स की वजह से बैक्टीरियल वेजिनोसिस हो सकता है, जबकि पहले की स्टडी में यह बात सामने नहीं आयी थी.

बैक्टीरियल वेजिनोसिस से बचाव और इलाज

अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के अनुसार ज्यादातर मामलों में बैक्टीरियल वेजिनोसिस अपने आप ठीक हो जाता है. फिर भी यदि आपको बैक्टीरियल वेजिनोसिस के लक्षण महसूस हो रहे हैं तो आपको इसका डॉक्टरी इलाज करवा लेना चाहिए. डॉक्टर आमतौर पर बैक्टीरियल वेजिनोसिस के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स लेने की सलाह देते हैं. बैक्टीरियल वेजिनोसिस में घरेलू उपचार और फार्मासिस्ट से खुद ही दवा लेकर उनका सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे लक्षण और खराब हो सकते हैं.

बैक्टीरियल वेजिनोसिस संक्रामक बीमारी नहीं है और इससे बहुत कम ही असुविधा होती है. अच्छा तो यह रहेगा कि आप इस संक्रमण को होने ही ना दें. अगर आपको बैक्टीरियल वेजिनोसिस है तो आपके क्लैमाइडिया जैसे यौन संचारित रोगों की जद में आने की आशंका अधिक है. नीचे दिए गए कुछ कदम अपनाकर आप बैक्टीरियल वेजिनोसिस से खुद को बचा सकती हैं –

  • अपनी योनि को अंदर से धोकर साफ करने से बचें, यह प्राकृतिक रूप से खुद की सफाई करती रहती है. अपने बाहरी यौन अंगों को साफ पानी और जरूरत पड़े तो हल्के गैर सुगंधित क्लींजर से साफ करें.
  • आपकी गुदा के संपर्क में आने वाली किसी भी चीज को योनि के अंदर प्रवेश करने से रोकें. यदि आप टॉयलेट पेपर का इस्तेमाल करती हैं तो हमेशा सामने से पीछे की ओर पोछें.
  • कई लोगों से सेक्स संबंध बनाने से बचें.
  • किसी भी प्रकार के असुरक्षित यौन संबंधों से बचें भले ही वह ओरल सेक्स हो या एनल और वैजाइनल. कंडोम और डेंटल डैम का इस्तेमाल करें.
  • सिंथैटिक सामग्री से बने टाइट अंडरवीयर न पहनें. कॉटन की पैंटी पहनें और अपने जननांगों व योनि को सूखा रखें. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, योनि में बैक्टीरियल संक्रमण के कारण, लक्षण, बचाव, इलाज और दवा पढ़ें।) (न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।)

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here