पिछले साल अप्रैल-मई के मुकाबले सबसे खराब स्थिति में भारतीय श्रम बाजार | Indian Labor Market In Worst Condition As Compared To April-May Last Year

72

सीएमआईई द्वारा प्रकाशित आंकड़ों से पता चला है कि बेरोजगारी दर, जो मई 2021 में 11.9 प्रतिशत तक पहुंच गई, जून की शुरूआत में बढ़ती रही. 6 जून, 2021 तक 30-दिवसीय चलती औसत बेरोजगारी दर 13 प्रतिशत थी.

Migrant Labourers (प्रतीकात्मक चित्र) (Photo Credit: IANS )

highlights

  • 6 जून, 2021 तक 30-दिवसीय चलती औसत बेरोजगारी दर 13 प्रतिशत थी
  • जनवरी 2021 के बाद से कुल गैर-कृषि नौकरियों का नुकसान 3.68 करोड़

नई दिल्ली :

कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच रोजगार दर में लगातार गिरावट के बीच सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (Centre For Monitoring Indian Economy-CMIE) ने कहा है कि भारतीय श्रम बाजार पिछले साल अप्रैल-मई के बाद से सबसे खराब स्थिति में है. सीएमआईई द्वारा प्रकाशित आंकड़ों से पता चला है कि बेरोजगारी दर, जो मई 2021 में 11.9 प्रतिशत तक पहुंच गई, जून की शुरूआत में बढ़ती रही. 6 जून, 2021 तक 30-दिवसीय चलती औसत बेरोजगारी दर 13 प्रतिशत थी. इसके अलावा श्रम भागीदारी दर, जो 40 प्रतिशत तक गिर गई थी और गिरकर 39.7 प्रतिशत हो गई है और सबसे महत्वपूर्ण श्रम बाजार संकेतक, रोजगार दर, जो मई में 35 .3 प्रतिशत से गिरकर 6 जून 2021 तक 34.6 प्रतिशत हो गई.

यह भी पढ़ें: Gold Silver Rate Today 11 June 2021: आज बढ़ सकते हैं सोने-चांदी के दाम, ज्यादातर जानकार जता रहे हैं अनुमान

 वेतनभोगी कर्मचारियों की संख्या 85 लाख

सीएमआईई के सीईओ महेश व्यास ने कहा कि भारतीय श्रम बाजार अप्रैल और मई 2020 के राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन महीनों के बाद से सबसे खराब स्थिति में है. उन्होंने कहा कि पिछले चार हफ्तों में श्रम बाजार की स्थितियों में विशेष रूप से तेज गिरावट देखी गई है. हालांकि, व्यास ने कहा कि स्थानीय लॉकडाउन के कारण असंगठित क्षेत्रों में खोई गई अनौपचारिक नौकरियों की रिकवरी की उम्मीद है. जनवरी 2021 के बाद से कुल गैर-कृषि नौकरियों का नुकसान 3.68 करोड़ है. इसमें से दिहाड़ी मजदूरों की संख्या 2.31 करोड़ है. सीएमआईई के अनुसार वेतनभोगी कर्मचारियों की संख्या 85 लाख है और बाकी उद्यमी हैं.

यह भी पढ़ें: Petrol Diesel Rate Today 11 June 2021: 110 रुपये लीटर हो गया पेट्रोल, जानिए आज की ताजा रेट लिस्ट

उन्होंने कहा कि नौकरियों को ठीक करने या 2019-20 के रोजगार के स्तर पर वापस आने के लिए भारत की अर्थव्यवस्था की मजबूत रिकवरी होगी. व्यास ने कहा कि अनलॉकिंग प्रक्रिया से मई 2021 के लॉकडाउन से जुड़े लगभग दो-तिहाई नौकरी के नुकसान की मरम्मत की उम्मीद की जा सकती है. यह महीने के दौरान खोई गई 2.5 करोड़ गैर-कृषि नौकरियों में से 1.7 करोड़ होगी. -इनपुट आईएएनएस



संबंधित लेख

First Published : 11 Jun 2021, 10:11:08 AM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.


Source link