न्याय के लिए केंद्रीय मंत्री से मिलने न देने पर महिला ने खाया जहर, अस्पताल में मौत Woman dies of poison after refusing to meet union minister for justice, dies in hospital

73

केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी के घर के बाहर 6 अप्रैल को जहर खाकर आत्महत्या का प्रयास करने वाली एक महिला की हुबली स्थित कर्नाटक आयुर्विज्ञान संस्थान (केआईएमएस) में मौत हो गई है.

प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • प्रहलाद जोशी के घर के महिला ने खाया जहर
  • केंद्रीय मंत्री से मिलने न देने पर खाया जहर
  •  महिला की 5 दिन बाद हुई अस्पताल में मौत

हुबली:

केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी के घर के बाहर 6 अप्रैल को जहर खाकर आत्महत्या का प्रयास करने वाली एक महिला की हुबली स्थित कर्नाटक आयुर्विज्ञान संस्थान (केआईएमएस) में मौत हो गई है. पुलिस के अनुसार, मृतका की पहचान धारवाड़ तालुका के गरंग गांव की निवासी श्रीदेवी वीरन्ना कम्मर (31) के रूप में हुई है. पुलिस ने कहा कि महिला ने 6 अप्रैल को जहर खा लिया था और शुक्रवार रात इलाज के दौरान अस्पताल में उसकी मौत हो गई. कन्नड़ में लिखा एक सुसाइड नोट भी पुलिस द्वारा उसके पास से बरामद किया गया था.

यह भी पढ़ें : दिल्ली में शास्त्री पार्क इलाके के फर्नीचर मार्केट में लगी भीषण आग, 200 दुकानें जलीं, करोड़ों का नुकसान

बताया जा रहा है कि महिला अपने बीमार पति और दो छोटे बच्चों के साथ गांव में रहती थी और उसे 2019 में भारी बारिश के दौरान क्षतिग्रस्त हुए अपने घर की मरम्मत के लिए मुआवजे की सख्त जरूरत थी. जहर खाने से पहले महिला ने कथित तौर पर कई मौकों पर केंद्रीय मंत्री से मिलने की कोशिश की थी, लेकिन कई दिन चक्कर लगाने के बावजूद उसे मंत्री से मिलने नहीं दिया गया. अपने सुसाइड नोट में उसने कहा था कि वह 2019 में बाढ़ से क्षतिग्रस्त हुए अपने घर की मरम्मत के लिए पर्याप्त मुआवजा चाहती थी, क्योंकि अधिकारियों ने बतौर मुआवजा केवल 50,000 रुपये ही जारी किए थे, जबकि उसके गांव के अन्य लोगों में से प्रत्येक को 5 लाख रुपये मिले थे.

महिला ने अपने पत्र में लिखा कि वह विधायक (अमृत देसाई) और सांसद (जोशी) के घरों का दौरा कर चुकी है और मुआवजे की मांग कर चुकी है, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. उसने कहा कि वह खुले में नहाने के लिए मजबूर है, क्योंकि उसके घर में शौचालय और बाथरूम क्षतिग्रस्त हो गए हैं. उसने कहा कि वह अपने परिवार के सदस्यों के साथ, सांसद से मिलने दिल्ली गई थी और उन्होंने इस संदर्भ में एक ईमेल भी भेजा था, लेकिन वह जोशी से मिलने नहीं दिया गया.

यह भी पढ़ें : कूचबिहार हिंसा के बाद अब 72 घंटे पहले प्रचार खत्म, नहीं जा सकेंगी दीदी

उसने कहा कि वह इस अपमान को सहन करने में असमर्थ है और उसने अब अपने जीवन को खत्म करने का फैसला कर लिया है. वहीं सांसद जोशी ने महिला की मौत पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि किसी को भी इस तरह का अतिवादी कदम नहीं उठाना चाहिए. सांसद ने कहा कि उन्होंने महिला से बात की थी और मुआवजे को लेकर उपायुक्त (डीसी) को निर्देश भी दिया था, मगर इससे पहले ही यह घटना हो गई. सांसद ने कहा कि सरकारी प्रक्रियाएं होती हैं और इसमें समय लगता है.



संबंधित लेख

First Published : 11 Apr 2021, 09:11:37 AM

For all the Latest Crime News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Source link