थायराइड के हैं पेशेंट तो भूलकर भी न करें इन 4 चीजों का सेवन, ये है वजह If You Are A Thyroid Patient Then Avoid Eating These 4 Food Know The Reason Behind– News18 Hindi

22
Thyroid Patient Avoid Eating These Foods: थायराइड दरअसल हमारे शरीर में मौजूद एक जरूरी हार्मोन्‍स होता है जो शरीर के सेल्‍स रिपेयर और मेटाबॉलिज्‍म को कंट्रोल करने का काम करता है. यह गले में बटरफ्लाई के शेप का एक छोटा सा ग्‍लैंड के रूप में रहता है जहां थायराइड (Thyroid) हार्मोन्‍स स्‍टोर रहते हैं. यह शरीर के लगभग सभी अंगों को प्रभावित करता है. यह हमारे भोजन (Foods) को एनर्जी में बदलने के लिए एक महत्‍वपूर्ण हार्मोन्‍स होता है. इन दिनों थायराइड की समस्या कई लोगों में देखने को मिल रही है. हेल्‍थलाइन के मुताबिक, थायराइड की समस्या पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में 10 गुना ज्यादा होती है. ये दो प्रकार के होते हैं, हाइपरथायराइडिज्म और हाइपोथायराइड. इसकी समस्‍या होने पर अचानक वजन बढ़ना, गले में सूजन, बालों का झड़ना आदि लक्षण दिखाई देते हैं. इस समस्या से बचने के लिए अपनी लाइफस्टाइल और खान-पान में सुधार बहुत जरूरी है. तो आइए यहां देखते हैं कि हमें कौन से फूड्स से दूरी बनानी चाहिए जो थायराइड की समस्‍या को बढाने का काम करते हैं.

1.पत्ता गोभी और फूलगोभी

अगर आप थायराइड की समस्‍या से पीडि़त हैं तो गोभी का सेवन नहीं करना चाहिए. पत्ता और फूलगोभी में गॉइट्रोगन काफी मात्रा में पाया जाता है जो थायराइड की समस्या को बढ़ा सकता है.

2.कैफीन युक्‍त भोजन

थायराइड की समस्या को ठीक करना है तो कैफीन वाली चीजों से दूरी बना लें. कैफीन युक्‍त भोजन थायराइड ग्लैंड और थायराइड लेवल दोनों को बढ़ाने का काम कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : सरसों के तेल के फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान, जानिए कैसे करें इसका इस्‍तेमाल

3.रेड मीट से रहें दूर

मटन, लैम्‍ब जैसे किसी भी तरह के रेड मीट से दूरी बनाएं. इनमें सेचुरेटेड फैट और कोलेस्ट्रॉल बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है. इस वजह से  रेड मीट खाने से फैट भी तेजी से बढ़ता है. इसके अलावा रेड मीट खाने से शरीर में जलन की परेशानी भी हो सकती है. इन सब वजहों से थायराइड के मरीजों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए.

4.सोयाबीन

दरअसल सोयाबीन में फयटोएस्ट्रोजन पाया जाता है जो थायराइड हार्मोंस बनाने वाले एंजाइम की फंक्शनिंग को प्रभावित करते हैं. ऐसे में सोयाबीन थायराइड के मरीजों के लिए नुकसानदेह हो सकता है.

Source link