तांबे के पानी से सेहत को हैं कई फायदे, मगर बरतें ये सावधानियां | health – News in Hindi

55

तांबे का पानी पीने से शरीर से विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं.

तांबे के बर्तन में पानी (Water In Copper) पीने से पाचनतंत्र (Digestive System) दुरुस्‍त रहता है और पेट से जुड़ी दिक्‍कतें नहीं होतीं. माना जाता है कि इसको पीने से शरीर से विषैले पदार्थ (Toxic Substances) बाहर निकल जाते हैं.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    September 6, 2020, 6:13 AM IST

सेहत (Health) की बेहतरी के लिए लोग कई तरीके अपनाते आए हैं. इन्‍हीं में से एक है तांबे (Copper) के बर्तन में पानी पीना. आपने सुना भी होगा कि तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से सेहत अच्‍छी रहती है. माना जाता रहा है कि अगर सुबह उठकर तांबे के बर्तन में रखा पानी (Water In Copper) पिया जाए तो इससे शरीर से विषैले पदार्थ (Toxic Substances) बाहर निकल सकते हैं. आप भी जानिए तांबे के बर्तन में रखे पानी के गुणों और इसको पीने से शरीर पर होने वाले असर के बारे में कि इससे शरीर को किस तरह फायदा पहुंचता है.

ऐसा माना जाता है कि तांबे के बर्तन में रखा पानी पूरी तरह से शुद्ध होता है. इसके असर की वजह से डायरिया, पीलिया, डिसेंट्री आदि बीमारियों को बढ़ावा देने वाले बैक्टीरिया खत्म हो जाते हैं.

पेट की सभी तरह की समस्याओं को दूर करने में तांबे का पानी बेहद फायदेमंद होता है. तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से गैस, एसिडिटी आदि समस्‍याओं से छुटकारा मिल सकता है. साथ ही कहा जाता है कि तांबे के बर्तन में रखे पानी वजन घटाने में भी फायदेमंद होता है.

इसको पीने से शरीर की आंतरिक सफाई होती है. साथ ही तांबे के बर्तन में रखा पानी लिवर और किडनी को भी सेहतमंद बनाए रखता है. इसके अलावा यह शरीर में होने वाले किसी तरह के इंफेक्शन को दूर करने में भी कारगर होता है.तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से पाचन क्रिया दुरुस्‍त रहती है. इसके लिए रात को सोने से पहले तांबे के बर्तन में पानी रख दें और सुबह उठ कर इसे पी लें. इससे पाचनतंत्र मजबूत बना रहेगा.

माना जाता है कि तांबे के बर्तनों में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण जोड़ों के दर्द में आराम पहुंचाते हैं और आर्थराइटिस रोग में इस बर्तन में रखा पानी पीना फायदा पहुंचाता है.

तांबे के बर्तन में खट्टी चीजों को न रखें
जहां सेहत के लिहाज से तांबे के बर्तन में रखा पानी पीना फायदेमंद माना जाता है, वहीं इसमें खट्टी चीजों जैसे दही, सिरका, अचार, छाछ और नीबू को तांबे के बर्तन में नहीं रखना चाहिए. दरअसल तांबे के बर्तन में कॉपर धातु होती है, जो कई चीजों के साथ मिलकर रिएक्ट करती है. इस प्रतिक्रिया की वजह से इन बर्तनों में रखा भोजन खाने से फूड प्वॉइजनिंग हो सकती है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here