कोविड मरीजों का हाल जानने सीएम योगी पहुंचेंगे सीधे अस्पताल, मुरादाबाद और बरेली में शनिवार से शुरुआत

18

CM योगी मुरादाबाद और बरेली में शनिवार को करेंगे स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा, अधिकारियों की उड़ी नींद.

मुख्यमंत्री शनिवार की सुबह 10. 25 पर लखनऊ के अमौसी एयरपोर्ट से राजकीय वायुयान से उड़ान भरकर 11.05 पर बरेली के त्रिशूल एयरपोर्ट पहुंचेंगे. जहां से वह कुछ ही देर बाद हेलीकॉप्टर से रवाना होकर 11.30 बजे मुरादाबाद के सर्किट हाउस पहुंचेंगे.

फरीद शम्‍शी मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ( Yogi Adityanath ) कोरोना वायरस संक्रमण से प्रभावित मरीजों की स्वास्थ्य व्यवस्था को परखेंगे. इसको लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 08 मई को मुरादाबाद और बरेली मंडल की कोरोना वायरस (Corona virus) के खात्मे के लिये किये जा रहे इंतजामों की समीक्षा के लिए आ रहे हैं. मुख्यमंत्री शनिवार की सुबह 10. 25 पर लखनऊ के अमौसी एयरपोर्ट से राजकीय वायुयान से उड़ान भरकर 11.05 पर बरेली के त्रिशूल एयरपोर्ट पहुंचेंगे. जहां से वह कुछ ही देर बाद हेलीकॉप्टर से रवाना होकर 11.30 बजे मुरादाबाद के सर्किट हाउस पहुंचेंगे. सर्किट हाउस पहुंचने के बाद वहां से सीधे जिलाधिकारी कार्यालय के सामने मुशायरा ग्राउंड में स्थित एंट्रीग्रेड कोविड-19 कमांड सेंटर का निरीक्षण करने जाएंगे. मुख्यमंत्री कोविड कमांड सेंटर का 11.45 बजे 12.15 बजे तक यानि 30 मिनट तक निरीक्षण करेंगे. उसके बाद वापस सर्किट हाउस पहुंचेंगे और यहां 12.30 से 02 बजे तक मुरादाबाद मंडल के रामपुर, बिजनोर, संभल, अमरोह के अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 2.00 बजे के बाद मुरादाबाद से बरेली के लिए हेलिकॉप्टर से रवाना हो जाएंगे और 2.30 पर बरेली पुलिस लाइन के हेलीपैड पर पहुंचेंगे. बरेली जनपद के अलावा बरेली मंडल के बाकी जनपदों के अधिकारियों के साथ वर्चुअल संवाद करेंगे. मुख्यमंत्री के इस निरीक्षण के समय बरेली जनपद के जनप्रतिनिधि भी समीक्षा बैठक में साथ रहेंगे. मुख्यमंत्री शाम 05.40 पर लखनऊ के लिए राजकीय वायुयान से रवाना हो जाएंगे.मुख्यमंत्री के समीक्षा कार्यक्रम में आने की भनक लगने के बाद ही अधिकारी तैयारियों में जुट गए हैं. सभी कोविड हॉस्पिटल में भर्ती मरीजों का आंकड़ा जुटाया जा रहा है. इसके साथ ही यह भी ध्यान दिया जा रहा है कि जनप्रतिनिधियों से बैठक के दौरान किसी जनप्रतिनिधि द्वारा ऑक्सीजन की कमी की कोई शिकायत मुख्यमंत्री के सामने न आ जाए.







Source link