किसानों ने मेरठ के NH 58 टोल प्लाजा पर दिया धरना, एक लेन फ्री कराई, गूंजा जय किसान का नारा

99

मेरठ के टोल प्लाजा पर आज किसानों ने विरोध प्रदर्शन किया.

मेरठ में आज किसानों का उग्र प्रदर्शन देखने को मिला. यहां वेस्टर्न यूपी टोल प्लाज़ा पर किसानों ने धरना दिया. इस दौरान NH 58 स्थित टोल की एक लेन को भी फ्री करा दिया. किसानों का कहना है कि उनके नेता राकेश टिकैत के निर्देश के बाद ही अब यहां से उठेंगे.

मेरठ. उत्तर प्रदेश के मेरठ में आज किसानों का उग्र प्रदर्शन देखने को मिला. यहां पर वेस्टर्न यूपी टोल प्लाजा पर जय किसान के नारे गूंजे और किसानों  ने धरना दिया. इस दौरान किसानों ने NH58 स्थित टोल की एक लेन को भी फ्री करा दिया. किसानों का कहना है कि उनके नेता राकेश टिकैत के निर्देश के बाद ही अब यहां से उठेंगे. मौके पर भारी संख्या में पुलिस भी तैनात कर दी गई है. कृषि कानून के विरोध में चल रहे आंदोलन के 6 माह पूरे होने पर भारतीय किसान यूनियन ने काला दिवस मनाने का ऐलान किया था. उसी के तहत जगह-जगह प्रदर्शन का सिलसिला सुबह से ही आरंभ हो गया था. हाथों में तख्ती और काली पट्टी बांधकर भी प्रदर्शन किया गया.इस दौरान भारी मात्रा में फोर्स भी टोल प्लाज़ा पर तैनात रही. एसडीएम सहित तमाम अन्य अधिकारी भी टोल प्लाज़ा पर पहुंचे और स्थितियों का आंकलन किया.

किसान का विरोध प्रदर्शन, मेरठ, टोल प्लाजा, धरने पर बैठे, किसान जिंदाबाद के नारे, राकेश टिकैत, किसान आंदोलन Protest of farmers, Meerut, toll plaza, sit on dharna, slogan of Kisan Zindabad, Rakesh Tikait, Kisan agitation

किसान नेशनल हाइवे की एक लेन में बैठ गए और जय किसान के नारे लगाने लगे.

भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले प्रदर्शन करते हुए किसानों ने कहा कि केंद्र सरकार को हठधर्मिता छोड़कर तीनों कृषि कानून वापस लेने चाहिए और किसानों से वार्ता कर के नए कानून को बनाने की रूप रेखा तय करनी चाहिए. मेरठ के नंगलाताशी स्थित सैनिक विहार में भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार का पुतला फूंकने की कोशिश की जिसे मौके पर पहुंचकर पुलिस ने रोक दिया.गौरतलब है कि पश्चिमी यूपी के कई जिलों में किसान आज केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों के विरोध में काला दिवस मना रहे हैं. मेरठ में किसानों ने अपने घरों, ट्रैक्टरों पर काले झंडे लगाकर भी विरोध जताया. बागपत शामली मुजफ्फरनगर में भी किसानों ने अपने घरों और वाहनों पर काले झंडे लगाकर विरोध जताया. ऐसे ही वेस्ट यूपी के अन्य ज़िलों में भी हालात रहे.







Source link