कर्ज के बोझ में दबता राज्य: कर्ज के बोझ में दबता राज्य, 31 मार्च 2022 तक 6,15,170 करोड़ रुपये कर्ज का अनुमान – maharashtra government is increaing burden of debt

51

मुंबई, राजकुमार सिंह
महाराष्ट्र की महाविकास आघाडी सरकार ऐतिहासिक कर्ज के बोझ तले दबती जा रही है। 2021-22 के बजट के अनुसार, 31 मार्च 2022 तक महाराष्ट्र पर कुल 6,15,170 करोड़ रुपये कर्ज पहुंच जाएगा, जबकि 2011-12 में महाराष्ट्र पर 2,25,976 करोड़ रुपये कर्ज था। इसके बाद भी सरकार में शामिल दल दावा कर रहे हैं कि अब भी 5 प्रतिशत और कर्ज ले सकते हैं।

पिछले 10 साल के रेकॉर्ड को खंखाले, तो पता चलता है कि महाराष्ट्र पर कर्ज का बोझ लगातार बढ़ता जा रहा हैं। फडणवीस सरकार के दौरान सबसे कम कर्ज लिया गया था। 2017-18 में जहां राज्य पर 4,02,402 करोड़ रुपये कर्ज था, वहीं साल 2018-19 में 4,07,152 करोड़ रुपये ही कर्ज पहुंचा। यानी महज 4,750 करोड़ रुपये ही कर्ज लिया गया। उस वक्त के वित्तमंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने कहा था कि सरकार को कर्ज लेने की क्या जरूरत है? उनकी पूरी कोशिश होगी कि जिस विभाग को जितना फंड दिया गया है, वह उसे खर्च करे। खर्च करने पर उनका पूरा जोर था।

कर्ज के बोझ में दबता राज्य

साल कर्ज राशि (करोड़ रुपयों में)

2011-12 2,25,976

2012-13 2,46,692

2013-14 2,69,355

2014-15 2,94,261

2015-16 3,24,202

2016-17 3,64,819

2017-18 4,02,402

2018-19 4,07,152

2019-20 4,51,114

2020-21 5,38,304

2021-22 6,15,170

जीएसडीपी का 25% कर्ज ले सकती है सरकार
कर्ज का बोझ सरकार पर भले बढ़े, लेकिन अब भी सरकार के पास कर्ज लेने का रास्ता खुला है। वित्त विभाग के अधिकारी के अनुसार, अभी सरकार ने कुल जीएसडीपी का 20.22 प्रतिशत कर्ज लिया है। सरकार अभी और भी कर्ज ले सकती है। वैसे, सरकार कुल जीएसडीपी का 25 प्रतिशत तक कर्ज ले सकती है। अधिकारी ने बताया कि जब जरूरत पड़ेगी] तो कर्ज लिया जाएगा, वरना अतिरिक्त पैसा लेकर क्या करेंगे? वित्त मंत्री अजित पवार का कहना है कि 2021-22 तक राज्य पर कुल जीएसडीपी का 20.20 प्रतिशत हो सकता है।

कोरोना में दौरान लिए 87,190 करोड़ रुपये
गौरतलब है कि 2020 राज्य पूरी तरह से कोरोना से जूझता रहा। सरकार की आमदनी पूरी तरह से ठप रही, इसलिए उसे कर्ज लेकर काम-काज चलाना पड़ा। कर्मचारियों को वेतन व पेंशन देने, कर्ज पर ब्याज का भुगतान करने तथा स्वास्थ्य विभाग पर खर्च करने के लिए 2020 में ठाकरे सरकार ने 87,190 करोड़ रुपये कर्ज लिया।

जीएसडीपी पर राज्य का कुल कर्ज

साल कर्ज (% में)

2017-18 17.10

2018-19 15.78

2019-20 16.01

2020-21 20.22

2021-22 20.64

Source link