इस्‍तीफे के बाद कुछ देर शांत दिखे स्‍वामी प्रसाद मौर्य, फिर तमतमाते हुए बोले- ‘BJP में जो खुद को तोप समझते हैं उन पर गोले दागूंगा’ – Jansatta Setback for BJP as UP Minister Swami Prasad Maurya quits Yogi cabinet joins SP इस्‍तीफा देकर कुछ देर शांत दिखे स्‍वामी प्रसाद मौर्य, फिर तमतमाते हुए बोले

23

इस्‍तीफा देने के बाद स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने कई पत्रकारों के साथ बातचीत की। इस दौरान सभी पत्रकारों ने अलग-अलग सवाल पूछे, जिनके जवाब मौर्य ने अपने हिसाब से दिए, लेकिन गौर करने वाली बात यह रही कि कुछ देर तो बड़े ही अदब से खुद को जिम्‍मेदार नेता बताते नजर आए, लेकिन दूसरे ही पल उन्‍होंने बीजेपी को खुली चुनौती देते हुए तमतमाते नजर आए।

उत्‍तर प्रदेश की योगी सरकार में लेबर मिनिस्‍टर स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने मंगलवार को मंत्री पद से इस्‍तीफा देकर समाजवादी पार्टी जॉइन कर ली। स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने राज्‍यपाल को दिए त्‍यागपत्र में लिखा, ‘दलितों, पिछड़ों, किसानों, बेरोजगार नौजवानों एवं छोटे-लघु एवं मध्यम श्रेणी के व्यापारियों की घोर उपेक्षात्मक रवैये के कारण उत्तर प्रदेश के योगी मंत्रिमंडल से इस्तीफा देता हूं।’ मौर्य के इस्‍तीफा देने के साथ ही विधायक रोशन लाल वर्मा, भगवती सागर, ब्रजेश प्रजापति ने भी बीजेपी छोड़ दी।

इस्‍तीफा देने के बाद स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने कई पत्रकारों के साथ बातचीत की। इस दौरान सभी पत्रकारों ने अलग-अलग सवाल पूछे, जिनके जवाब मौर्य ने अपने हिसाब से दिए, लेकिन गौर करने वाली बात यह रही कि कुछ देर तो बड़े ही अदब से खुद को जिम्‍मेदार नेता बताते नजर आए, लेकिन दूसरे ही पल उन्‍होंने बीजेपी को खुली चुनौती देते हुए कह डाला, ”बीजेपी में जो खुद को तोप समझते हैं, मैं उन पर 2022 चुनाव ऐसे गोले दागूंगा कि…”

पहले आपको स्‍वामी प्रसाद मौर्य के उस बेहद शालीन, बेहद शांत बयान के बारे में बताते हैं, उसके बाद गरमा-गरम धमकी की पूरी बात बताएंगे और साथ ये भी बताएंगे कि मौर्य ने पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह, जेपी नड्डा और सीएम योगी आदित्‍यनाथ के बारे में क्‍या कहा है:

इस्‍तीफे के बाद ANI को दिए इंटरव्‍यू में स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने वही लाइनें सबसे पहले दोहराईं, जो उन्‍होंने अपने इस्‍तीफे में लिखकर भेजी हैं। उन्‍होंने कहा, ”दलितों, पिछड़ों, किसानों, बेरोजगार नौजवानों एवं छोटे-लघु एवं मध्यम श्रेणी के व्यापारियों की घोर उपेक्षात्मक रवैये के कारण उत्तर प्रदेश के योगी मंत्रिमंडल से इस्तीफा देता हूं।’ उन्‍होंने कहा, ‘मुझे केवल सरकार की नीतियों से समस्‍या है, इसलिए मैंने इस्‍तीफा दे दिया।’ उनसे पूछा गया कि आप मौर्य समाज से आते हैं तो आपको क्‍या लगता है बीजेपी को आपके जाने से कितना नुकसान होगा। इस पर स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि अभी कुछ कहना अतिशयोक्ति होगी, 2022 के नतीजों का इंतजार करिए। मैं जब चाहता हूं यूपी की तस्‍वीर बदल देता हूं।” यहां तक स्‍वामी प्रसाद थोड़े संयमित लगे, लेकिन कुछ देर बाद उनसे जब बीजेपी प्रवक्‍ता गौरव भाटिया के बयान के बारे में पूछा गया तो वह कहते हैं, ”जिसकी जितनी अक्‍ल, उतना ही बोलेगा, गौरव भाटिया मतलब न पिद्दी न पिद्दी का शोरबा।” पत्रकार ने स्‍वामी प्रसाद मौर्य को बताया था कि गौरव भाटिया ने कहा है, ”केशव प्रसाद मौर्य मतलब सूर्य और स्‍वामी प्रसाद मौर्य मतलब अंधकार। इसी के जवाब में स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने ”न पिद्दी न पिद्दी का शोरबा” वाला पलटवार कह दिया।

मौर्य बोले- ऐसा दागूंगा, ऐसा दागूंगा

अब एक दूसरे इंटरव्‍यू की बात करते हैं, जहां पत्रकार उनसे बार-बार पूछता रहा कि आप इस्‍तीफा क्‍यों दे रहे हैं। इसके जवाब में बार-बार स्‍वामी प्रसाद मौर्य कहते रहे कि सबकुछ इस्‍तीफे में उल्‍लेखित है… सबकुछ इस्‍तीफे में लिखा है। काफी देर तक वह इसी तरह टालते रहे, लेकिन बाद में उन्‍होंने फुलफॉर्म में आते हुए बीजेपी पर गोले ही दागने की बात कर डाली। वह बोले- ”उत्‍तर प्रदेश की राजनीति स्‍वामी प्रसाद मौर्य के चोरों ओर घूमती है। जिन नेताओं को घमंड था कि वो बहुत बड़े तोप हैं, उस तोप को मैं 2022 के चुनाव में मैं ऐसा दागूंगा, ऐसा दागूंगा कि भाजपा के नेता स्‍वाहा हो जाएंगे।”

‘प्रधानमंत्री जी से मिला बहुत स्‍नेह और प्रेम’

स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने हालांकि ये नहीं बताया कि वह किस बीजेपी नेता इतने खफा हैं कि कैबिनेट से इस्‍तीफा देकर तोप दागने की बात कर रहे हैं। हालांकि, उन्‍होंने पीएम मोदी का जिक्र करते हुए बड़ा ही सम्‍मान जताया। मौर्य ने कहा, ”देखिए प्रधानमंत्री जी तो हमेशा हमें बहुत स्‍नेह और प्‍यार देते रहे हैं। हमको न तो प्रधानमंत्री जी से कोई शिकायत है, न ही अमित शाह जी से, न नड्डा जी, न ही योगी जी से। हमें तो गलत नीतियों से शिकायत है, क्‍योंकि राजनीति में कोई भी लड़ाई व्‍यक्तिगत नहीं होती है।”

Source link