इम्युनिटी के लिए क्यों जरूरी है हेल्दी पेट, जानिए एक्सपर्ट की राय/Gut health is very important to build immunity know the expert comments Lak– News18 Hindi

15

Gut health News : कोरोना महामारी आने के बाद पिछले डेढ़ साल से हर तरफ इम्युनिटी (Immunity) बढ़ाने की चर्चा है. इसके लिए लोग विटामिन सी का सेवन और कई तरह के घरेलू नुस्खे आज तक अपना रहे हैं. कई तरह की जड़ी-बुटियों से बीमारियों का भी इलाज कर रहे हैं. लेकिन इन चीजों का इस्तेमाल करते हुए अक्सर लोग पेट की हेल्थ के बारे भूल जाते हैं. एचटी की खबर के मुताबिक अगर पेट या आंत हेल्दी नहीं रहेगी तो इम्युनिटी भी नहीं बढ़ेगी.

इसे भी पढ़ेंः कोरोना संक्रमण के बाद कर रहे हैं रिकवरी? इस हेल्दी फूड चार्ट से बढ़ाएं इम्यूनिटी

आंत शरीर का दूसरा ब्रेन
हेल्थ एक्सपर्ट के मुताबिक आंत या पेट हमारे शरीर का दूसरा ब्रेन है. हम जो चीज खाते हैं, उसका सीधा असर हमारे स्वास्थ्य पर होता है. हार्मोन के स्तर से लेकर प्रजनन स्वास्थ्य तक, हर चीज का संबंध खाने-पीने से जुड़ा है. न्यूट्रिशियनिस्ट मनीषा चोपड़ा (Manisha Chopra) बताती हैं कि आंत की हेल्थ हमारे शरीर के लिए बेहद जरूरी है. क्योंकि आंत में कई तरह के इम्युनिटी सेल्स होते हैं. इसके अलावा आंत में असंख्य गुड बैक्टीरिया होते हैं जो किसी भी तरह के संक्रमणकारी वायरस, बैक्टीरिया या फंगस को खत्म करते हैं. हेल्दी आंत हार्मोन और नसों के जरिए ब्रेन से भी जुड़ी होती है. इसिलए आंत का स्वस्थ्य होना बहुत जरूरी है.

इसे भी पढ़ेंः क्या आप बहुत ज्यादा टेंशन में हैं? इन 5 उपाओं से तनाव को दूर भगाएं

गुड बैक्टीरिया की संख्या बरकरार रहना जरूरी
डाइटिशियन रूचि परमार कहती हैं, आंत में पाए जाने वाले जीवाणु रसायनों का उत्पादन करते हैं. ये रसायन इम्युन सेल्स से ब्रेन और नर्वस सिस्टम में हानिकारक वायरस को खत्म करने का आदेश देते हैं. हमारे आंत में अरबों सूक्ष्म जीवाणु हैं. इसे ह्यूमन माइक्रोब्स (human microbiome) कहते हैं. यह इम्युन सिस्टम को एक्टिवेट करते हैं ताकि आक्रमणकारी वायरस को मारा जा सके. इसलिए यह जरूरी है कि हमारी आंत में मौजूद गुड बैक्टीरिया की संख्या बरकरार रहे. अगर ऐसा नहीं होगा तो फिर इम्युनिटी बूस्ट करने के लिए कितना भी कुछ न करें, यह मजबूत नहीं होगी.

कैसे बनाएं हेल्दी आंत
सबसे पहले पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए. इसके बाद फाइबर से भरपूर हरी सब्जियों का इस्तेमाल करना चाहिए.ज्यादा सैचुरेटेड तेल की जगह नारियल का तेल या वर्जिन ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल करें. सरसों या रिफाइंड तेल में ओमेगा-6 फैटी एसिड बहुत ज्यादा होता है. यह कम मात्रा में शरीर के लिए फायदेमंद हैं लेकिन इसकी अत्यधिक मात्रा बहुत नुकसानदायक है. पोषक तत्वों से भरपूर हरी पत्तीदार सब्जियां पेट के लिए बहुत अच्छी होती हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link