आयकर फाइलिंग पोर्टल को लेकर Infosys के को-फाउंडर नंदन नीलेकणि का बड़ा बयान | Infosys co-founder Nandan Nilekani big statement regarding income tax filing portal

88

highlights

  • नया ई-फाइलिंग पोर्टल फाइलिंग प्रक्रिया को आसान करेगा और अंतिम उपयोगकर्ता के अनुभव को बढ़ाएगा: नंदन नीलेकणि
  • इंफोसिस को शुरूआती गड़बड़ियों पर खेद है और उम्मीद है कि सिस्टम इस सप्ताह के भीतर ठीक हो जाएगा: नंदन नीलेकणि

नई दिल्ली:

इंफोसिस (Infosys) के को-फाउंडर नंदन नीलेकणि (Nandan Nilekani) ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) के नए आयकर फाइलिंग पोर्टल (New Income Tax e-filing Portal) में गड़बड़ियों पर सार्वजनिक टिप्पणियों का जवाब देते हुए कहा कि इंफोसिस को गड़बड़ियों के लिए खेद है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ट्विटर पर सार्वजनिक टिप्पणी की थी जिसमें इन्फोसिस को नए आयकर पोर्टल के साथ समस्याओं के लिए बुलाया गया था. उसपर नीलेकणि ने ट्वीट किया कि नया ई-फाइलिंग पोर्टल फाइलिंग प्रक्रिया को आसान करेगा और अंतिम उपयोगकर्ता के अनुभव को बढ़ाएगा. 

यह भी पढ़ें: UP बनने जा रहा है बिजनेस हब, 40 विदेशी कंपनियां कर रही हैं बड़ा निवेश

इंफोसिस को इन शुरूआती गड़बड़ियों पर खेद है: नंदन नीलेकणि

उन्होंने कहा कि हमने पहले दिन कुछ तकनीकी मुद्दों को देखा है, और उन्हें हल करने के लिए काम कर रहे हैं. इंफोसिस को इन शुरूआती गड़बड़ियों पर खेद है और उम्मीद है कि सिस्टम इस सप्ताह के भीतर ठीक हो जाएगा.

यह भी पढ़ें: बासमती की क्या है कहानी, कैसे भारत बन गया सबसे बड़ा एक्सपोर्टर

वित्त मंत्री ने सिस्टम के साथ इन खामियों की ओर इशारा किया और इंफोसिस को इसे मंगलवार को ठीक करने को कहा था.

यह भी पढ़ें: Petrol Price Today 9 June 2021: गाड़ी स्टार्ट करने से पहले चेक कर लीजिए आज कितना महंगा हो गया पेट्रोल-डीजल

वित्त मंत्री ने ट्वीट में कहा कि बहुप्रतीक्षित ई-फाइलिंग पोर्टल 2.0 कल रात 20:45 बजे लॉन्च किया गया था. मैं अपनी टीएल शिकायतों और गड़बड़ियों में देखती हूं. 

यह भी पढ़ें: बासमती चावल पर भारत और पाकिस्तान में क्यों मची हुई है ‘जंग’, जानिए पूरा मामला

सेवा की गुणवत्ता में हमारे करदाताओं को निराश नहीं करेंगे: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

आशा है कि इंफोसिस और नन्दन नीलेकणि प्रदान की जा रही सेवा की गुणवत्ता में हमारे करदाताओं को निराश नहीं करेंगे. अनुपालन में आसानी करदाता हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए. -इनपुट आईएएनएस

यह भी पढ़ें: Gold Silver Rate Today 9 June 2021: मौजूदा लेवल पर सोने-चांदी में क्या करें, जानिए जानकारों की राय



संबंधित लेख



Source link