आईओबी ने 327 करोड़ रुपये के शुद्ध लाभ के साथ क्यू1 को बंद किया

42

चेन्नई:
प्रबंध निदेशक और सीईओ पार्थ प्रतिम सेनगुप्ता ने मंगलवार को कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के इंडियन ओवरसीज बैंक ने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में लगभग 327 करोड़ रुपये के शुद्ध लाभ के साथ बंद किया।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में आईओबी ने लगभग 327 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया है, जबकि पिछले वर्ष की इसी तिमाही में लगभग 121 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था।

समीक्षाधीन अवधि के लिए, आईओबी ने लगभग 5,155 करोड़ रुपये की कुल आय अर्जित की थी, जो पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही के दौरान अर्जित राशि से लगभग 5,233 करोड़ रुपये से कम थी।

समीक्षाधीन अवधि के दौरान आईओबी का कुल कारोबार 3,81,885 करोड़ रुपये (जमा 242,941 करोड़ रुपये, अग्रिम 138,944 करोड़ रुपये) हो गया, जो पिछले वर्ष में 357,111 करोड़ रुपये (जमा 225,546 करोड़ रुपये, अग्रिम 131,565 करोड़ रुपये) था।

सेनगुप्ता ने कहा कि बैंक पिछली कुछ तिमाहियों के दौरान सभी प्रमुख मानकों पर अच्छा प्रदर्शन कर रहा है।

उन्होंने कहा कि हमने आरबीआई (भारतीय रिजर्व बैंक) को पत्र लिखकर हमें पीसीए (शीघ्र सुधारात्मक कार्रवाई) से बाहर निकालने का अनुरोध किया है और हम प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहे हैं।

उनके अनुसार, बैंक ऋणों की वसूली, कम लागत वाली जमा राशियों को जुटाने और कम पूंजी लेने वाले अग्रिमों पर ध्यान केंद्रित कर रहा है।

सेनगुप्ता ने कहा कि बैंक करीब 4,500 करोड़ रुपये के फंसे कर्ज की रिकवरी का लक्ष्य लेकर चल रहा है और पहली तिमाही के दौरान करीब 1,100 करोड़ रुपये की रिकवरी हुई।

31 जून, 2021 को बैंक की सकल गैर-निष्पादित संपत्ति 15,952 करोड़ रुपये थी, जबकि 31 जून, 2020 को यह 18,291 करोड़ रुपये थी।

31 जून, 2021 को शुद्ध एनपीए 3,998 करोड़ रुपये था, जबकि 31 जून, 2020 को यह 6,081 करोड़ रुपये था।

पिछली तिमाही के दौरान, आईओबी ने 115.42 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 17 मामले दर्ज किए।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.



Source link