अनिल देशमुख की कुर्सी जा सकती है: jayant patil had been home minister for one year in the past : मुंबई आतंकी हमले के बाद जयंत पाटिल ने संभाली थी गृहमंत्रालय की जिम्मेदारी

186

हाइलाइट्स:

  • महाराष्ट्र के मौजूदा कैबिनेट मंत्री जयंत पाटिल राज्य के अगले गृहमंत्री बनाए जा सकते हैं
  • शरद पवार गृहमंत्री अनिल देशमुख से नाराज बताए जा रहे हैं
  • जयंत पाटील के पास इसके पहले गृह मंत्रालय चलाने का अनुभव भी है
  • मुंबई आतंकी हमले के बाद जयंत पाटिल ने संभाली थी गृहमंत्रालय की जिम्मेदारी

मुंबई
महाराष्ट्र के सियासी गलियारों में अब अनिल देशमुख को गृहमंत्री (Home minister anil deshmukh) पद से हटाकर उनकी जगह जयंत पाटील (Jayant Patil) को गृह मंत्री बनाए जाने की खबरें सामने आ रही है। सचिन वझे मामले में गृह मंत्रालय की हुई बदनामी से शरद पवार काफी नाराज बताए जा रहे हैं। इसी वजह से परमवीर सिंह के बाद अब गृहमंत्री अनिल देशमुख की कुर्सी पर भी खतरा मंडरा रहा है।

मुकेश अंबानी के घर के पास मिले विस्फोटक और मनसुख हिरेन हत्या मामले (Mansukh Murder Case) में ठाकरे सरकार बैकफुट पर है। इस वजह से महाराष्ट्र के गृह विभाग पर जमकर कीचड़ उछाला जा रहा है। शिवसेना पर भी वझे को समर्थन देने का आरोप लग रहा है। इतना ही नहीं इस मामले में एनसीपी की भूमिका पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं।

पढ़ें: जा सकती है गृहमंत्री अनिल देशमुख की कुर्सी

जयंत पाटिल ही क्यों?
मुंबई पर जब 26 नवंबर 2008 के दिन आतंकी हमला हुआ था तब राज्य के गृह मंत्री आर आर पाटिल (आबा) थे। लेकिन हमले के दौरान उनके एक वक्तव्य के चलते उन्हें गृह मंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ी थी। जिसके बाद दिसंबर 2008 में जयंत पाटिल को गृहमंत्री गृह मंत्रालय का अतिरिक्त गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। जिसके बाद उन्होंने तकरीबन एक साल तक यह कार्यभार संभाला था। ऐसे में शरद पवार को यह लागत है कि संकट के समय में गृह मंत्रालय को संभालने की कार्यकुशलता जयंत पाटील के पास है।

क्यों जा सकती है अनिल देशमुख की कुर्सी?
अब इस मामले में सरकार की हो रही छीछालेदर को देखते हुए अनिल देशमुख को भी हटाए जाने की आशंका जताई जा रही है। आइए आपको बताते हैं तीन बड़ी वजहें जिसके चलते देशमुख को अपनी कुर्सी गंवानी पड़ सकती है।

पहला) सूत्रों की माने तो जिस प्रकार से सचिन वझे का नाम अंबानी के घर के पास खड़ी स्कॉर्पियो में रखे विस्फोटक मामले में सामने आया है। उसको देखते हुए शरद पवार को यह लगता है कि देशमुख में गृह मंत्रालय चलाने की काबिलियत नहीं है। इस मामले की वजह से सरकार को बैकफुट पर आना पड़ा है।

दूसरा) दूसरी बड़ी वजह बताई जा रही है कि मुंबई पुलिस और सचिन वझे के कारण महाराष्ट्र के गृह मंत्रालय की जबरदस्त बदनामी इस पूरे प्रकरण में देश और दुनिया के सामने हुई है। जिसकी वजह से भी देशमुख के ऊपर इस्तीफे की तलवार लटक रही है।

तीसरी) शरद पवार को यह भी लगता है कि इस मामले के बाद अनिल देशमुख का मनोबल काफी गिर गया है। मुख्यमंत्री पद के बाद सबसे महत्वपूर्ण विभाग माना जाने वाला गृह मंत्रालय उनके जिम्मे छोड़ना उचित नहीं होगा। इस बात की भी संभावना जताई जा रही है कि अब अनिल देशमुख की जगह जयंत पाटिल को गृह मंत्रालय दिया जा सकता है।

Deshmkh and Jayant Patil

महाराष्ट्र के मौजूदा कैबिनेट मंत्री जयंत पाटिल राज्य के अगले गृहमंत्री बनाए जा सकते हैं

Source link