अटल के जमाने से BJP का झंडा बुलंद किए हैं भानु प्रताप वर्मा, ये है सियासी सफर- Modi Cabinet Expansion Bhanu Pratap gets birth 5 time mp from jalaun know his political history upas– News18 Hindi

18
जालौन. मोदी सरकार के पहले मंत्रिमंडल विस्तार (Modi Cabinet Expansion) में 5 बार के बीजेपी सांसद भानु प्रताप सिंह वर्मा (Bhanu Pratap Singh Verma) को जगह मिल गई है. उनके समर्थक इस उपलब्धि पर खासे उत्साहित हैं. साथ ही लोगों ने उम्मीद जताई है कि यूपी के सबसे पिछड़े जिलों में शुमार उनके जालौन (Jalaun) के विकास को गति मिलेगी. बता दें जालौन की गरौठा भोगनीपुर संसदीय सीट से भानु प्रताप वर्मा सांसद हैं.

भानु प्रताप वर्मा ने अपने राजनीतिक करियर 1991 में कोच विधानसभा सीट से बतौर विधायक शुरू किया था. भानु प्रताप वर्मा कोरी समाज से ताल्लुख रखते हैं और इनका अपने समाज मे अच्छी खासी पकड़ मानी जाती है. 1996 में जनपद जालौन की लोकसभा सीट जालौन-गरौठा नाम से थी, जिसमें 4 विधानसभा थीं. उरई-जालौन विधानसभा, कालपी, माधौगढ़ और कोंच विधानसभा. चारों प्रमुख पार्टियों के उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे. 1996 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी भानु प्रताप वर्मा को जीत मिली और पहली बार भानु प्रताप वर्मा सांसद बने.

इसके बाद 1998 के लोकसभा चुनाव में भी भानु प्रताप वर्मा दूसरी बार विजयी घोषित हुए. 2004 के लोकसभा चुनाव में भानु प्रताप वर्मा ने जीत का क्रम बरकरार रखा. 2014 के लोकसभा चुनाव और फिर 2019 के लोकसभा चुनाव में भानु प्रताप वर्मा को दोबारा जीत मिली इस तरह कुल 5 बार इस सीट से सांसद चुने गए.

उनके समर्थकों का कहना है कि जालौन वासियों के लिए ये गर्व की बात है कि इस इलाके के सांसद को केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह दी गई है. दरसअल कानपुर और झांसी के बीच स्थित जालौन बुन्देलखण्ड क्षेत्र का सबसे पिछड़ा जिला माना जाता है. उद्दालक ऋषि की तपोभूमि और राजा माहिल की नगरी उरई, जालौन जिले का मुख्यालय है.

आजादी कि लड़ाई में भी यहां के रणबांकुरों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था. आजादी के बाद से ही दस्यु समस्या से ग्रसित रहा जालौन विकास से कोसों दूर है. ग्रामीण इलाका यमुना और चंबल के बीहड़ों में फैला है. हालांकि पिछले 10 वर्षो से यहां दस्यु समस्या से निजात मिल जरूर गई है. सभी बड़े गिरोह के सदस्य या तो मुठभेड़ में मारे गए या उन्होने खुद समर्पण कर दिया. लेकिन अब जनता को उम्मीद है कि मोदी मंत्रिमंडल में जगह मिलने के बाद यहां के जनप्रतिनिधि इलाके का समुचित विकास करा पाएंगे.

इनपुट: प्रदीप त्रिपाठी

Source link